ForeverMissed
This memorial website was created in memory of our loved one, Dr. Deepak Bagaria, 66 years old, born on June 23, 1954, and passed away on June 6, 2021. We will remember him forever.
Posted by ajay Bagaria on July 22, 2021
Bhaiya has left memories.
But I cannot forget one incident.
My mother and his daadi was very very sick in year 1991 and went to coma.
Doctor bhaiya worked 3 days and 3 nights till she recovered. It was a miracle.
Several miracles were made by this great soul.
Koti koti pranam
Posted by Gopal Bagaria on July 22, 2021
क्यो झरझर रोये ये नैना किसकी राह तके नैना अब ना कोई पूछेगा कि क्यो नम है ये नैना????

Leave a Tribute

 
Recent Tributes
Posted by ajay Bagaria on July 22, 2021
Bhaiya has left memories.
But I cannot forget one incident.
My mother and his daadi was very very sick in year 1991 and went to coma.
Doctor bhaiya worked 3 days and 3 nights till she recovered. It was a miracle.
Several miracles were made by this great soul.
Koti koti pranam
Posted by Gopal Bagaria on July 22, 2021
क्यो झरझर रोये ये नैना किसकी राह तके नैना अब ना कोई पूछेगा कि क्यो नम है ये नैना????
his Life

भईया क्या सचमुच आप लौट कर ना आएँगे???

भईया क्या सचमुच आप लौट कर ना आएँगे???रिश्तों की डोर क्या इतनी कमजोर थी कि आप ने छोड़ी और हम छू भी ना पायेंगे? आप की जरुरत है हमसब को ,ये अब हम आप को कैसे बताएंगे?भइया क्या सचमुच आप लौट कर ना  आएँगे? किस अनन्त बिंदु में आप छुप गए , कैसे  खोज पाएंगे ? अनगिनत सवालों का समाधान भाईया अब  हम कहा से  लाएंगे? आज  ऐसा लगता है मानो इस  अनजाने से रास्ते पर कौन हमारा पथप्रदर्शक होगा,कौन होगा कोई आप सा जिसे आपबीती बताएंगे?भईया क्या  सचमुच आप लौट कर ना आएंगे??? सूना सा घर हो गया,आंगन तो ना जाने कहां  खो गया ,आप के आंचल तक हम कैसे पहुंच पाएंगे?हर गलती पर वो सिर्फ  सर का हिला देना और फिर गुस्सा होकर धमका देना,भईया आप सा कब कौन बन पायेगा,ये क्षतिपूर्ति ना _______?भईया क्या  सचमुच आप लौट कर ना आएंगे???????बड़े होने का भी फर्ज कुछ इस तरह निभाया  आप ने  कि पीछे सब मौन से स्तब्ध देखते रह जाएंगे ।अशेष शब्द और अभेद्य मन के शब्द अधूरे ही रह जाएंगे। भईया क्या  सचमुच आप  लौट कर  घर  ना  आएँगे??? रिश्तों  के  शब्दकोष को हमको जिसने पढना सिखलाया (है )क्यो इस तरह (था )बनकर आगे का पाठ पढ़ाएंगे ।बहू बनाकर जिस घर की दहलीज पार कराई है उस घर की दहलीज  इस तरह बिन कहे आप ही पार कर  जायेंगे। छोडा किसके भरोसे हमसब को इतना तो बतलाना था,हर आहट पर कहां ठिठकना कहां नही घबराना था।कुछ  फर्ज  बताजाते तो हम महफूज रह पाते,बदलते जमाने का कुछ तो दस्तूर कहा होता,कहां चले गये आप जो कभी इन आंखो को नम भी ना होने देते थे ।क्यो झरझर रोये ये नैना किसकी राह तके नैना अब ना कोई पूछेगा कि क्यो  नम है ये नैना????
Recent stories